बीवी की मौजूदगी में पति ने रचाई साली से शादी, जाने कैसे राज़ी हुई पत्नी

हिंदू विवाह अधिनियम यानी Hindu Marriage Act के तहत एक पत्नी के जिंदा होते हुए और उसे बिना तलाक दिए दूसरी शादी करना गैरकानूनी हैं. हालाँकि मध्य प्रदेश के भिंड में एक चौकाने वाला मामला सामना आया हैं. यहाँ के एक सरपंच ने एक ही मंडप के नीचे अपनी पत्नी और साली दोनों से शादी रचा ली. यानी उसकी पहली पत्नी जिस से वो शादी कर चूका था उससे तो दूसरी बार शादी रचाई ही लेकिन उसी के सामने अपनी साली साहिबा के गले में भी वरमाला डाल दी. दिलचस्प बात ये हैं कि इस शादी से ना तो शख्स की पत्नी को कोई शिकायत हैं और ना ही उसकी साली से दुसरी बीवी बनी महिला को कोई प्रॉब्लम हैं. ये पूरा मामला बड़ा विचित्र हैं लेकिन इसके पीछे एक ख़ास वजह भी हैं. आइए इस पुरे मामले को विस्तार से जानते हैं.

दरअसल 26 नवंबर को भिंड में एक ऐसी शादी हुई जिसे देख वहां मौजूद हर शख्स हैरान रह गया. शादी के स्टेज पर दुल्हन तो दो थी लेकिन दुल्हा एक ही था. दरअसल भिंड जिला मेहगांव जनपद के गुदावली गांव निवासी सरपंच दीपू परिहार ने ये गज़ब का कारनामा कर दिखाया हैं. इन महाशय ने अपनी पत्नी की मौजूदगी में ही उसकी चचेरी बहन यानी शख्स की साली से शादी रचा ली. इतना ही नहीं अपनी साली को वरमाला पहनने के साथ साथ दीपू ने अपनी पहली बीवी के गले में भी हार डाला. इस तरह उसने एक साथ दो दुल्हनों से विवाह रचा लिया. अब ये शादी पुरे इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि दीपू की पहली शादी से तीन बच्चे भी हैं. इनमे सबसे बड़े बेटे की उम्र 9 साल हैं जबकि दो बेटियों की उम्र 7 और 5 साल हैं. चुकी हिंदू धर्म में इस तरह का दूसरा विवाह करने की इजाजत नहीं हैं इसलिए सभी लोग इस शादी को लेकर हैरान भी हैं. अब आप सभी भी यही सोच रहे होंगे कि आखिर इस शख्स ने अपनी बीवी को साली से शादी करने के लिए कैसे मना लिया होगा? तो चलिए इस राज़ पर से भी पर्दा उठाए देते हैं.

इस कारण करी दूसरी शादी

दरअसल सरपंच साहब का कहना हैं कि उनकी पहली बीवी अक्सर बीमार रहती हैं. ऐसे में उनके बच्चों की ठीक से देखभाल नहीं हो पाती हैं. यही वजह हैं कि उन्होंने अपनी पत्नी की रजामंदी से ही उनकी चाचेरी साली से शादी रचा ली. साथ ही उन्होंने इस बात का भी ख्याल रखा कि पुरे शादी महारोह में उनकी पहली पत्नी भी दुल्हन बनकर प्रक्रिया और अन्य रस्मों का हिस्सा बने.

अब यह घटना वहां के लोकल इलाके के साथ साथ सोशल मीडिया पर भी चर्चा का विषय बनी हुई हैं. बीवी की मर्जी से साली से शादी करना अपने आप में बड़ा अटपटा सा लगता हैं. हालाँकि इनकी जरूरत ही कुछ ऐसी थी कि बच्चों की देखरेख के खातिर महिला ने अपने हस्बैंड को दूसरी शादी रचाने की अनुमति दे दी. अब इस पुरे मामले पर आपकी क्या राय हैं हमें जरूर बताए. क्या हस्बैंड ने साली से शादी कर सही किया या गलत?

Leave a Reply