कब्ज की समस्यां से परेशान थी महिला, टॉयलेट में ज्यादा जोर लगाया तो चली गई याददाश्त

जीवन में बहुत सारी ऐसी चीजें होती हैं जिसे आप नज़रअंदाज़ या टाल सकते हैं. लेकिन कुछ प्राकृतिक चीजें ऐसी भी होती हैं जिसके ऊपर किसी का बस नहीं चलता हैं. मसलन मल-मूत्र त्यागने जैसी चीजों को हम ज्यादा देर रोक नहीं सकते हैं. ये हमें रोजाना हर हाल में करना ही होता हैं. हालाँकि कई बार आंतरिक गड़बड़ी की वजह से हमें कब्ज की समस्यां हो जाती हैं. ऐसे में ये रोजमर्रा की क्रिया में बाधा उत्पन्न होने लगती हैं. कब्ज होने की स्थिति में कुछ लोग डॉक्टर या मेडिसिन का सहारा लेते हैं जबकि अन्य इसके अपने आप ठीक होने का इंतजार करते हैं. हालाँकि यदि आपके कब्ज की समस्यां बहुत ज्यादा बढ़ जाए तो ये आपके लिए हानिकारक भी हो सकती हैं. इसकी एक वजह ये भी हैं कि कब्ज होने की वजह से हम टॉयलेट में कुछ ज्यादा ही जोर लगाने लगते हैं. ऐसे में होंगकोंग की रहने वाली महिला को ऐसा करना भरी पड़ गया. उसने मल त्यागते समय इतना ज्यादा जोर लगा दिया कि उसकी पिछले 10 साल की याददाश्त ही चली गई. तो ऐसा आखिर कैसे हुआ? आइए इसे विस्तार से जानते हैं.

दरअसल एक लड़के ने सोशल मीडिया पर अपनी माँ की एक स्टोरी शेयर की हैं. इसमें उसने बताया कि माँ पिछले दो सप्ताह से कब्ज की समस्यां से जूझ रही थी. ऐसे में जब वो टॉयलेट गई और उन्होंने अधिक जोर लगाया तो अमनेसिया बिमारी की शिकार हो गई. बता दे कि अमनेसिया एक ऐसी बिमारी हैं जिसमे व्यक्ति के दिमाग की कुछ हिस्से की मेमोरी चली जाती हैं. अधिकतर मामलो में ये स्थिति टेम्पररी होती हैं. यहाँ महिला के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था. करीब आठ घंटे तक महिला को अपने जीवन के पिछले दस सालों की कोई भी बात याद नहीं थी. हालंकि इसके बाद उसकी याद्दाश्त वापस आ गई.

बेटे ने बताया कि इस बात से घबरा कर मैं माँ को अस्पताल ले गया था लेकिन जब डॉक्टर ने उनका चेकअप किया तो उनका दिमाग नार्मल तरीके से ही काम कर रहा था. माँ को अस्पताल से घर वापस लाया गया लेकिन बाथरूम जानके के बाद आठ घंटे में उनके साथ क्या हुआ था इसका उन्हें कोई अंदाजा नहीं हैं.

इस पूरी घटना के पीछे की संभवतः वजह बताते हुए न्यूरोलॉजिस्ट कहते हैं कि “कब्ज के दौरान जब महिला ने अधिक जोर लगाया तो उनके दिमाग में ऑक्सीजन की कमी हो गई होगी. दरअसल उन्होंने अपने मलाशय में इतनी जोर से प्रेशर डाला होगा कि उनके पेट में सारी ऑक्सीजन चली गई और दिमाग में इसकी कमी हो गई. बस यही वजह थी कि उन्हें टेम्पररी मेमोरी लॉस हुआ होगा. डॉक्टर की माने तो ये चीज उन लोगो में ज्यादा कॉमन होती हैं जो अधिक भावुक होते हैं या रोजाना ज्यादा वजन उठाते हैं. ये कुछ ऐसा ही हैं जैसे जब कोई जरूरत से ज्यादा वजन उठाते समय अचानक से बेहोश हो जाता हैं. जब आप ज्यादा जोर लगाते हैं तो आपकी हार्ट बीट बहुत बढ़ जाती हैं और ब्लीड प्रेशर कम हो जाता हैं. इस वजह से आपके दिमाग में भी ब्लड फ्लो की कमी होने लगती हैं.

हालाँकि ये अभी स्पष्ट नहीं हैं कि यह विशेष घटना सच में होंगकोंग में हुई थी या फिर ये ऑनलाइन चल रही कोई कहानी मात्र हैं. वैसे यदि आपको कब्ज हो जाए तो डॉक्टर से परामर्श अवश्य ले.

Leave a Reply