दिल्ली में शुरु हुआ AAP का सियासी ड्रामा, नामांकन वाले दिन दिखा फूल कंफ्यूजन

दिल्ली का सियासी ड्रामा शुरु हो चुका है। आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच सत्ता पर काबिज होने की होड़ मची हुई है। दोनों ही पार्टियां इस चुनाव में ऐड़ी चोटी का जोर लगा रही हैं। इसी कड़ी में मंगलवार को दिल्ली विधानसभा चुनाव में नामांकन भरने का आखिरी दिन था, जिसकी वजह से जमकर सियासी ड्रामा हुआ। दरअसल, मंगलवार को केजरीवाल अपना नामांकन भर रहे थे, जिसमें उन्होंने लंबा इंतजार करना पड़ा। इस इंतजार पर आम आदमी पार्टी के नेताओं ने राजनीति करने की सोची और इसका आरोप उन्होंने बीजेपी पर लगा दिया, जिसके बाद जमकर सियासी नाटक हुआ।

दिल्ली विधानसभा के लिए 8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे, जिसको लेकर जमकर सियासत हो रही है। तमाम पार्टियां दिल्ली मे सरकार बनाने का दावा कर रही हैं, लेकिन इससे पहले नामांकन वाले दिन तो गजब का नाटक देखने को मिला, जो ट्विटर पर ट्रेंड हो गया। दरअसल, केजरीवाल ने अपने नामांकन के लिए 7 घंटे का लंबा इंतजार किया, जिस पर उनके ही नेताओं ने सियासत छेड़ दी, लेकिन असली कंन्फ्यूजन तो आम आदमी पार्टी के अंदर ही दिखाई दिया, नहीं समझें आप? तो चलिए हम आपको समझाते हैं कि आखिरी माजरा क्या है?

नामांकन में केजरीवाल को हुई देरी, तो छिड़ी बहस

मंगलवार को करीब 7 घंटे लाइन में लगे रहने के बाद केजरीवाल अपना नामांकन भर सके, जिसके बाद आम आदमी पार्टी का ड्रामा शुरु हो गया। ट्वीटर पर आम आदमी पार्टी के नेता सौरभ ने ट्वीट करते हुए लिखा कि सीएम केजरीवाल को नामांकन भरने मे हो रही देरी के पीछे बीजेपी वालों की साजिश है, ताकि वे चुनाव नहीं लड़ सके। इतना ही नहीं, उन्होंने बीजेपी पर कई अन्य गंभीर आरोप लगाए, लेकिन कहानी में ट्विस्ट तो तब आया, जब केजरीवाल का ट्वीट आया।

नामांकन में देरी पर केजरीवाल ने किया ये ट्वीट

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने नामांकन में देरी को लेकर खुशी जताते हुए एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के पर्व में बहुत लोग हिस्सा ले रहे हैं, जिससे उन्हें खुशी हो रही है और इसी वजह से उन्हें इंतजार का मजा आ रहा है। मतलब साफ है कि केजरीवाल और उनके नेताओं के बीज गजब का कंन्फ्यूजन देखने को मिल रहा है, जिसका पहला उदाहरण तो आपने देख ही लिया, लेकिन ऐसे कई उदाहरण हमारे समक्ष मौजूद हैं। तो इस तरह से दिल्ली में नामांकन के दिन ही जमकर सियासी ड्रामा हुआ।

चुनाव आयोग ने दिल्ली में विधानसभा चुनाव के लिए 8 फरवरी की डेट दी है। दिल्ली में एक ही चरण में चुनाव होंगे, जिसमें 70 सीटें शामिल होंगे। बता दें कि नतीजे 11 फरवरी को आएंगे, जिसकी वजह से अब जमकर सिसायत हो रही है। याद दिला दें कि साल 2015 में आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में इतिहास रचते हुए 70 में से 67 सीटों पर जीत हासिल की थी, जिसके बाद ये चुनाव पूरे देश के लिए मुद्दा बन गया था, ऐसे में ये देखना दिलचस्प रहेगा कि इस बार आम आदमी पार्टी के खाते में कितनी सीटें जाती है?

Leave a Reply