आपके हाथ की उंगलियों के बीच दूरी बताती है कितने बड़े आदमी बनेंगे आप

DMCA.com Protection Status

हम सब जानते हैं की ज्योतिष शास्त्र में कई तरह की बाते बताई जाती है जिनमे एक हैं हस्तशास्त्र, बताते चलें की हस्तरेखा विज्ञान के आधार पर किसी भी मनुष्य के भविष्य और उससे जुड़ी कई तरह की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। ऐसा बताया जाता है की हाथ की रेखाओं के साथ आप उंगलियों से भी अपने वर्तमान और भविष्य के बारे में जानकारी पा सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें की हस्तरेखा में उंगलियों की लंबाई के साथ-साथ उनकी बनावट और सिर्फ इतना ही नही बल्कि उनके बीच की दूरी से भी किसी इंसान के चरित्र तथा उसके व्यवहार के बारे में जाना जा सकता है। आज हम आपको बताएँगे की किस तरह आपकी अंगुलियों के बीच के गैप यानि की उँगलियों के बीच की दूरी से पता लगाया जा सकता है की आपके भविष्य के गर्भ में क्या छिपा है।

अंगुलियों के बीच गैप से जानिए अपना भविष्य

लक्ष्य को लेकर होते हैं काफी गंभीर

आपकी जानकारी के लिए बताते चलें की हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, अगर तर्जनी यानी की अगूंठे के नजदीक वाली उंगली और मध्यमा यानी की मीडिल फिंगर के बीच में जगह खाली है तो इससे पता चलता है की उस व्यक्ति के विचार काफी स्वतंत्र हैं और वो अपनी कोई भी बात बड़ी ही आसानी से कह दिया करता है। वहीं ठीक इसके वीपरीत अगर अंगुलियों के बीच की दूरी ज्यादा है तो समझ लीजिये की ऐसे लोग काफी ज्यादा स्वार्थी होते हैं।

बड़े पदों पर काम करते हैं ऐसे लोग

आपकी जानकारी के लिए बताते चलें की यदि आपकी तर्जनी अंगुली यानी की अगूंठे के पास वाली उंगली, अनामिका यानी रिंग फिंगर से छोटी है तो इसका यह अर्थ निकलता है की इस तरह के लोगों में अहं भाव काफी ज्यादा होता है साथ ही साथ उनके अंदर सम्मान पाने की बहुत इच्छा होती है। वहीं इसके ठीक विपरीत जिन लोगों की यह ऊंगली अनामिका से बड़ी होती है वो ज़िम्मेदारी वाले पद पर होता है और उसके ऊपर कई तरह की जिम्मेदारियाँ होती हैं जिन्हे वो बखूबी निभाता है।

गंभीर स्वभाव के होते हैं ऐसे व्यक्ति

हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार, यदि आपकी किसी भी उंगलियों में बिल्कुल भी फासला नहीं है तो ऐसे व्यक्ति काफी गंभीर स्वभाव के होते हैं। ऐसे लोग किसी से ज्यादा बात नहीं करते हैं, हमेशा अपने आप में रहते हैं। जिनकी सभी उंगलियों में फासला होता है ऊर्जावान होते हैं। उन लोगों की सोच काफी सकारात्मक होती है।”

स्वार्थी होते हैं ऐसे लोग

हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार, मध्यमा यानी मिडिल फिंगर और अनामिका यानी रिंग फिंगर के बीच में दूरी नहीं होनी चाहिए। इन दोनो अंगुलियों का पास-पास होना शुभ माना जाता है। अगर इनके बीच में खाली जगह हो तो ऐसा व्यक्ति काफी लापरवाह माना जाता है। यह केवल अपने बारे में सोचते हैं।

परिवार के लिए करते हैं सभी कार्य

अनामिका यानी रिंग फिंगर और कनिष्ठा यानी सबसे छोटी उंगली के बीच की खाली जगह अशुभ मानी जाती है। ऐसे व्यक्ति बहुत क्रोधी होते हैं। यह अपने हक के लिए किसी भी स्तर पर जा सकते हैं, फिर यह गलत और सही नहीं देख पाते। जिनकी खाली जगह होती है, वह काफी सकारात्मक सोचते हैं और अपने परिवार की शांति के लिए सभी कार्य करते हैं।

यह भी पढ़ें :

Recommended For You

About the Author: Kumar Gourav

Leave a Reply