अगर आपको मिलते हैं यह संकेत तो समझिए पितरों का मिला है आशीर्वाद, आपके ऊपर पितृ है प्रसन्न

DMCA.com Protection Status

पितृपक्ष के दिनों में व्यक्ति अपने पितरों की आत्मा की शांति के लिए इनका श्राद्ध कर्म और तर्पण करता है, लोग पवित्र नदियों में जाकर अपने पितरों के लिए तर्पण करते हैं, ऐसा बताया जाता है कि श्राद्ध के दौरान अगर पितरों की पूजा और इनका तर्पण किया जाए तो इससे इनकी आत्मा को मुक्ति मिलती है, वैसे देखा जाए तो हमारे पितृ और पूर्वज कई प्रकार के होते हैं, ऐसे कुछ पितृ होते हैं जिनका दूसरा जन्म हो गया होता है, परंतु कुछ पूर्वज ऐसे भी होते हैं जिन्होंने पितृ लोक में स्थान प्राप्त किया है, जिन पूर्वजों ने पितृ लोक में स्थान प्राप्त कर लिया है वह हर साल पितृपक्ष के दौरान अपने वंशजों को देखने के लिए पृथ्वी लोक पर आते हैं और उसी दौरान इनको आशीर्वाद या श्राप देकर चले जाते हैं, अब आप लोगों के मन में यह सवाल आ रहा होगा कि आखिर हम इस बात का अंदाजा कैसे लगाएं कि हमारे पितृ हमारे ऊपर प्रसन्न है?

अगर हमारे ऊपर हमारे पितरों का आशीर्वाद रहता है और यह हम से प्रसन्न होते हैं तो हमें अपने जीवन में कहीं ना कहीं कुछ लक्षण दिखाई देने लगते हैं, आज हम आपको ऐसे कुछ लक्षणों के बारे में जानकारी देने वाले हैं जो आपको अपने जीवन में मिलते हैं तो इसका अर्थ होता है कि आपके ऊपर आपके पितरों का आशीर्वाद बना हुआ है और यह आपसे प्रसन्न है।

यह लक्षण बताते हैं कि पितृ आपके ऊपर है प्रसन्न

  • अगर आप अपने सपने में देखते हैं कि आपके पूर्वज आपको आशीर्वाद दे रहे हैं या फिर सपने में कोई सांप आपकी सुरक्षा कर रहा है तो इसका मतलब होता है कि आपके पितृ आपके ऊपर प्रसन्न है।
  • अगर आप अपने काम काज ठीक प्रकार से कर रहे हैं और आपके कार्य में किसी भी प्रकार की बाधाएं उत्पन्न नहीं हो रही है, आपके हर कार्य सरलता पूर्वक बनते चले जा रहे हैं तो इसका अर्थ होता है कि आपके पितृ आपके ऊपर खुश हैं।
  • अगर आपके बच्चे आपका सम्मान करते हैं और आपकी आज्ञा का पालन करते हैं तो इसका मतलब होता है कि पितृ आपके ऊपर प्रसन्न है।

  • अगर आप अपने घर परिवार की बहन, बेटी, बहू या पत्नी का सम्मान करते हैं और उनकी जरूरतों को ठीक प्रकार से पूरा करते हैं तो इससे आपके ऊपर पितृ प्रसन्न होते हैं परंतु जिस घर के अंदर महिला दुखी रहती है और जिनके आंसू निकलते हैं उस घर में परेशानी उत्पन्न होती है।
  • जिस घर के अंदर रोजाना नियमित रूप से पूजा पाठ किया जाता है और धुप-दीप जलाया जाता है, उस घर परिवार के ऊपर पितृ प्रसन्न रहते हैं।
  • अगर श्राद्ध के दिनों में आपके रुके हुए काम काज पुनः पूरे होने लगे और अचानक आपको धन प्राप्ति हो तो इसका अर्थ होता है कि आपके पितृ आपके ऊपर प्रसन्न है।
  • अगर आप अपने घर के मंदिर में दीपक जलाते हैं और उसकी ज्योत ठीक प्रकार से ऊपर तक अपने आप जलने लगे तो यह पितरों का आशीर्वाद माना जाता है।
  • अगर आप अपने घर के किसी पितृ को याद करते हुए अपने कार्य कर रहे हैं और सभी कार्यों में किसी ना किसी प्रकार का सहयोग मिल रहा है तो इसका अर्थ होता है कि आपके पितृ आपके ऊपर प्रसन्न है।

Recommended For You

Sohan Mahto

About the Author: Sohan Mahto

Leave a Reply