xpornplease pornjk porncuze porn800 porn600 tube300 tube100 watchfreepornsex
4 जुलाई से शुरु है जगन्नाथ यात्रा, इस दिन राशि के हिसाब से करें इन मंत्रों का जाप -

4 जुलाई से शुरु है जगन्नाथ यात्रा, इस दिन राशि के हिसाब से करें इन मंत्रों का जाप

राशिफल

भगवान श्री जगन्नाथ की रथ यात्रा हर साल निकाली जाती है। ये यात्रा आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को आरम्भ होती है। इस यात्रा में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा को रथ पर विराजमान किया जाता है और इस रथ को ढोल और नगाड़ों के साथ निकाला जाता है। भगवान जगन्नाथ के इस रथ को भक्तों द्वारा खींचा जाता है और ये रथ पुरी नगर से गुजरते हुए गुंडीचा मंदिर ले जाया जाता है। गुंडीचा मंदिर में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा माता सात दिनों के लिए विश्राम करते हैं।

दरअसल इस मंदिर को भगवान जगन्नाथ की मौसी का घर माना जाता है और भगवान जगन्नाथ इस मंदिर में आकर कुछ दिनों के लिए आराम  करते हैं। सात दिनों तक आराम करने के बाद भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा के रथ को वापस से पुरी के मंदिर में ले जाया जाता है और इन्हें पुरी के मंदिर में वापस से स्थापित कर दिया जाता है। जगन्नाथ भगवान की वापसी यात्रा को बहुड़ा यात्रा के नाम से जाना जाता है और बहुड़ा यात्रा में भी लाखों की संख्या में लोग शामिल होते हैं ।

गुंडीचा मंदिर से जुड़ी कथा

गुंडीचा मंदिर से एक कथा जुड़ी हुई है और इस कथा के अनुसार इसी जगह पर देव शिल्पी विश्वकर्मा ने भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा की प्रतिमाओं को बनाया था और बाद में इन प्रतिमा को पुरी जगन्नाथ मंदिर में रखा गया था।

4 जुलाई से होगी शुरू रथ यात्रा

इस साल भगवान श्री जगन्नाथ की यात्रा जुलाई महीने की 4 तारीख से शुरू होगी। ये यात्रा विश्व प्रसिद्ध है और हर साल इस यात्रा में शामिल होने के लिए दुनिया भर से लोग पुरी आते हैं। हालांकि कई ऐसे भी लोग हैं, जो कि किन्हीं कारणों के चलते इस यात्रा में शामिल नहीं हो पाते हैं और भगवान श्री जगन्नाथ के दर्शन नहीं कर पाते हैं। अगर आप भी किसी कारण के चलते इस यात्रा में शामिल नहीं हो पा रहे हैं, तो आप अपनी राशि के हिसाब से नीचे बताए गए मंत्र का जाप करें लें। इन मंत्रों का जाप करने से भगवान श्री जगन्नाथ आप से खुश हो जाएंगे और बिना उनकी यात्रा में शामिल हुए उनका आशीर्वाद आपको मिल जाएगा।

अपनी राशि के हिसाब से करें इन मंत्रों का जाप –

मेष राशि  :

ॐ पधाय जगन्नाथाय नम:

वृषभ राशि :

ॐ शिखिने जगन्नाथाय नम:

मिथुन राशि :

ॐ देवादिदेव जगन्नाथाय नम:

कर्क राशि :

ॐ अनंताय जगन्नाथाय नम:

सिंह राशि :

ॐ विश्वरूपेण जगन्नाथाय नम:

कन्या राशि :

ॐ विष्णवे जगन्नाथाय नम:

तुला राशि :

ॐ नारायण जगन्नाथाय नम:

वृश्चिक राशि :

ॐ चतुमूर्ति जगन्नाथाय नम:

धनु  राशि:

ॐ रत्ननाभ: जगन्नाथाय नम:

मकर राशि :

ॐ योगी जगन्नाथाय नम:

कुंभ राशि :

ॐ विश्वमूर्तये जगन्नाथाय नम:

मीन राशि :

ॐ श्रीपति जगन्नाथाय नम:

ऊपर बताए गए मंत्रों का जाप आप कम से कम 21 बार करें और इन मंत्रों का जाप करते हुए एक दीपक अपने पास जरुर जला लें। इन मंत्रों के अलावा नीचे बताए गए मंत्र का जाप करना भी काफी शुभ होता है और इस मंत्र का जाप करने से भी भगवान श्री जगन्नाथ की कृपा आप पर बन जाती है। इस मंत्र का जाप आप 31 बार करें।

नीलांचल निवासाय नित्याय परमात्मने।
बलभद्र सुभद्राभ्याम् जगन्नाथाय ते नमः।।


Leave a Reply